Breaking

Thursday, March 7, 2019

क्योंकि उसने जब परीक्षा की दशा में दुःख उठाया | A WORD IN SEASON TO THE WEARY

Jesus Christ
ईश्वरीय भेदों का प्रकाश
परमेश्वर के दास भाई बख्तसिंग के द्वारा लिखित और प्रकाशित की गई पुस्तक में से

“क्योंकि उसने जब परीक्षा की दशा में दुःख उठाया, तो वह उनकी भी सहायता कर सकता है, जिनकी परीक्षा होती है।” (इब्रानियों २:१८)

मेरे जीवन के कठिन समयों में इस वचन के प्रति मेरा ध्यान खिंचा गया था।
नये जन्म पूर्व मेरी तो ऐश ही ऐश थी।
बहुत सारे मित्र तथा पैसे थे।
परन्तु परिवर्तन के बाद पैसे गये, मित्र गये, और कई बार दिनों दिन तक भूखे रहना पड़ता था।
मैंने निश्चय किया था किसी भी व्यक्ति के पास मदद नहीं मागुंगा।
जरूरत पड़ जाये तो भूखे मर जाऊँगा, परन्तु मेरी जरुरतो के विषय किसी भी व्यक्ति को नहीं बताऊँगा।

एक दिन राह चलते निराशा से विचार करने लगा, ‘किस लिये प्रभु ने मेरे जीवन में ऐसी परिस्थिति आने दी है? अचानक, मार्ग में तख्ता पर यह वचन लिखा हुआ मैंने देखा, ‘क्योंकि जब उसने परीक्षा की दशा में दुःख उठाया, तो वह उनकी भी सहायता कर सकता है जिनकी परीक्षा होती है।’
(इब्रानियों २:१८)
मैं इस वचन को जानता था, परन्तु वहाँ रहकर इन शब्दों को पढ़ने से मैंने सांन्तवन्‌ पाया।
मैं मन में ऐसा कहते हुये चलने लगा, ‘वह सहायता करने शक्तिमान है।’
उस दिन से मैं कभी निराश नहीं हुआ।
मैंने कहा, ‘मेरे पाप के कारण मेरे प्रभुने हरेक मुश्किलों को सहा है। परीक्षा होनी क्या है, उसे वह जानता है। इसलिये मेरी परीक्षा हो तब सहायता करने में वह शक्तिमान है।’
जब आपकी परीक्षा हो तब जानिये कि प्रभु यीशु की परीक्षा हुई थी और वह सहायता करने में शक्तिमान है।

क्या यह अद्‌भुत नहीं है?
प्रभु यीशु मसीह सभी मनों को जानता है।
आप अपने हृदय को पहचानें उससे ज्यादा वह पहचानता है।
ऐसा मत सोचिये कि आप अकेले ही सह रहे हैं।
आप कहते होंगे, ‘अरे, मैं नहीं सोचता कि मुझ जैसा किसी ओर को सहना पड़ा होगा। मेरे माता-पिता कैसे है वह कोई जानता नहीं, मेरे पति से या पत्नी से जो सहन कर रहा हूँ उसे कोई नहीं जानता। परन्तु प्रभु सब जानता है। कृपा करके खुद के लिये बहाने मत निकालिये। प्रभु यीशु मसीह सम्पूर्ण मनुष्य बना कि जिससे हर कोई जगह किसी भी समय कैसी भी मुश्किलो में वह आपकी सहायता करे।’

Jesus Christ

No comments:

Post a Comment