Breaking

Monday, February 4, 2019

पहले चंगाई मिलेगी या पहले विश्वास करना पड़ेगा

पहले चंगाई मिलेगी या पहले विश्वास करना पड़ेगा

आजकल हम देखते हैं कि  दुनिया में  सभी लोग  किसी ना किसी परेशानी में जी रहे हैं कोई तो अपनी परेशानी को खुलकर बता देता है परंतु कोई नहीं  बता सकता  क्योंकि उसे लगता है कि किसी इंसान को बताने से क्या होगा और वह अपने भगवानो से भी प्रार्थना करके थक चुका है कोई अपनी बीमारी से,  कर्ज से, कोई आर्थिक समस्याओं , तो कोई नोकरी को लेकर परेशान है और कोई अपने  घर के झगड़ों  को लेकर के  परेशान है   परंतु बाइबिल में उत्पत्ति की पुस्तक में शुरुआत में ही लिखा है कि दुख और परेशानियों की शुरुआत कैसे हुई उसका कारण सिर्फ और सिर्फ पाप है  जैसे ही परमेश्वर की आज्ञा को आदम और हवा ने तोड़ा उनसे पाप हुआ तो उनके जीवन में परमेश्वर की ओर से बहुत सारा शराप आ गया  परंतु उसके बाद  परमेश्वर ने अपने पुत्र प्रभु यीशु मसीह  को भेजकर उसका समाधान  भी किया  आज का मनुष्य अगर परमेश्वर के भेजे हुए पर विश्वास करें तो निश्चय वह अपने सभी प्रकार के पाप और शराप से निजात पाएगा आइए समझते हैं परमेश्वर के वचन ( बाईबिल) से कि कैसे उन लोगों को जिन्होंने अपनी अंतरात्मा से विश्वास किया और उन्हें छुटकारा मिला

लूका 5:20
[20]उस ने उन का विश्वास देखकर उस से कहा; हे मनुष्य, तेरे पाप क्षमा हुए।

वह परमेश्वर आपके आंसुओं को देखता है वह आपके मन के विचारों को जानता है और उसी के आधार पर आपकी प्रार्थना को सुनकर आपको चंगा  करता है  क्योंकि विश्वास कहने से प्रकट नहीं होता जब तक आप पूर्ण रूप से परमेश्वर की ओर समर्पित नहीं होते तब तक हां मैं दोबारा यही बात कहूंगा जब तक आप अपना पूरा भरोसा परमेश्वर पर नहीं रखते और अपना जीवन प्रभु यीशु मसीह को नहीं देते तब तक कुछ नहीं होने वाला वह परम प्रधान सृष्टि को बनाने वाला परमेश्वर है और वह पवित्र है वह चाहता है कि तुम भी पवित्र बनो वह गुप्त के विचारों को और आपकी सच्चाई को और आपके अंदर छिपे हुए झूठ को भी जानता है इसलिए जो परमेश्वर पर विश्वास करते हैं वह उनकी आज्ञा पालन भी करेंगे और यीशु मसीह  के पीछे सच्चाई से चलेंगे वह निश्चय अपनी जिंदगी में परमेश्वर की महिमा को देखेंगे इसी लिए सबसे पहले आपको भी पूर्ण रूप से विश्वास करना बहुत जरूरी है

[58]और उस ने वहां उन के अविश्वास के कारण बहुत सामर्थ के काम नहीं किए॥

NOTE:- आज वे सभी लोग जो भी इस वचन को पढ़ रहे हैं मेरी यह बात हमेशा याद रखना जो मैं अभी आपसे कहने वाला हूं आप किसी की प्रार्थना से पूरी तरह से ठीक नहीं होने वाले हो जब तक आप केवल और केवल अपने ही विश्वास और अपनी ही प्रार्थना के बल पर पूरी तरह से चंगाई और छुटकारे को ले सकते हो इसलिए खुद पर भरोसा करो और यह अच्छी तरह समझ लो  ताकि आप किसी भी  गलतफहमी मे रहकर अपना समय ना  खराब करें


No comments:

Post a Comment