Breaking

Monday, February 4, 2019

सचेत हो, और जागते रहो, क्योंकि तुम्हारा विरोधी शैतान गर्जने वाले सिंह की नाईं इस खोज में रहता है, कि किस को फाड़ खाए।

सचेत हो, और जागते रहो, क्योंकि तुम्हारा विरोधी शैतान गर्जने वाले सिंह की नाईं इस खोज में रहता है, कि किस को फाड़ खाए।


1 पतरस 5:8
[8]सचेत हो, और जागते रहो, क्योंकि तुम्हारा विरोधी शैतान गर्जने वाले सिंह की नाईं इस खोज में रहता है, कि किस को फाड़ खाए।

आज मैं बात करूंगा  वचन के द्वारा की रात में 12 A. M.  To 2 A. M.  प्रार्थना करना कितना जरूरी है आज मसीह लोग क्यों दुखी हैं क्योंकि वह प्रार्थना करवाने में विश्वास करते हैं परंतु खुद प्रार्थना नहीं करते  क्योंकि जब तक आप खुद खाना नहीं खाएंगे आपका पेट कैसे भरेगा तो आइए समझते हैं पवित्र शास्त्र में से जो रात को परमेश्वर के कामों का वर्णन हुआ है


1. मत्ती 14:25
[25]और वह रात के चौथे पहर झील पर चलते हुए उन के पास आया।

2. मत्ती 25:6
[6]आधी रात को धूम मची, कि देखो, दूल्हा आ रहा है, उस से भेंट करने के लिये चलो।

3. लूका 12:38
[38]यदि वह रात के दूसरे पहर या तीसरे पहर में आकर उन्हें जागते पाए, तो वे दास धन्य हैं।

4. लूका 12:20,38
[20]परन्तु परमेश्वर ने उस से कहा; हे मूर्ख, इसी रात तेरा प्राण तुझ से ले लिया जाएगा: तब जो कुछ तू ने इकट्ठा किया है, वह किस का होगा?

5. लूका 17:34
[34]मैं तुम से कहता हूं, उस रात दो मनुष्य एक खाट पर होंगे, एक ले लिया जाएगा, और दूसरा छोड़ दिया जाएगा।

6. प्रेरितों के काम 5:19
[19]परन्तु रात को प्रभु के एक स्वर्गदूत ने बन्दीगृह के द्वार खोलकर उन्हें बाहर लाकर कहा।

7. प्रेरितों के काम 16:9
[9]और पौलुस ने रात को एक दर्शन देखा कि एक मकिदुनी पुरूष खड़ा हुआ, उस से बिनती करके कहता है, कि पार उतरकर मकिदुनिया में आ; और हमारी सहायता कर।

8. प्रेरितों के काम 16:9,25
[9]और पौलुस ने रात को एक दर्शन देखा कि एक मकिदुनी पुरूष खड़ा हुआ, उस से बिनती करके कहता है, कि पार उतरकर मकिदुनिया में आ; और हमारी सहायता कर।


9.
[25]आधी रात के लगभग पौलुस और सीलास प्रार्थना करते हुए परमेश्वर के भजन गा रहे थे, और बन्धुए उन की सुन रहे थे

10. प्रेरितों के काम 18:9
[9]और प्रभु ने रात को दर्शन के द्वारा पौलुस से कहा, मत डर, वरन कहे जा, और चुप मत रह।


11. प्रेरितों के काम 23:11
[11]उसी रात प्रभु ने उसके पास आ खड़े होकर कहा; हे पौलुस, ढ़ाढ़स बान्ध; क्योंकि जैसी तू ने यरूशलेम में मेरी गवाही दी, वैसी ही तुझे रोम में भी गवाही देनी होगी॥

12. प्रेरितों के काम 27:23
[23]क्योंकि परमेश्वर जिस का मैं हूं, और जिस की सेवा करता हूं, उसके स्वर्गदूत ने आज रात मेरे पास आकर कहा।

13. रोमियो 13:12
[12]रात बहुत बीत गई है, और दिन निकलने पर है; इसलिये हम अन्धकार के कामों को तज कर ज्योति के हथियार बान्ध लें।

14. 1 थिस्सलुनीकियों 5:2,5
[2]क्योंकि तुम आप ठीक जानते हो कि जैसा रात को चोर आता है, वैसा ही प्रभु का दिन आने वाला है।
[5]क्योंकि तुम सब ज्योति की सन्तान, और दिन की सन्तान हो, हम न रात के हैं, न अन्धकार के हैं।

15. प्रकाशित वाक्य 4:8
[8]और चारों प्राणियों के छ: छ: पंख हैं, और चारों ओर, और भीतर आंखे ही आंखे हैं; और वे रात दिन बिना विश्राम लिए यह कहते रहते हैं, कि पवित्र, पवित्र, पवित्र प्रभु परमेश्वर, सर्वशक्तिमान, जो था, और जो है, और जो आने वाला है।


इसीलिए पवित्र आत्मा आज आपसे कहता है कि रात भर प्रार्थना करें और अपनी सारी चिंता परमेश्वर को दिल खोल कर बताएं और परमेश्वर के अद्भुत कामों को देखें

No comments:

Post a Comment