Breaking

Thursday, January 31, 2019

✝मेरी गवाही✝ | आपका भाई अमित बजाज

Jesus Hindi

✝मेरी गवाही✝

मेरा नाम अमित बजाज है एक हिंदू पंजाबी परिवार में मेरा जन्म हुआ मैं आपको बताऊंगा कि किस प्रकार सृष्टि कर्ता परमेश्वर पिता ने मुझे चुना मैं धार्मिक कामों में बहुत रुचि रखता था और पूजा पाठ किया करता था परंतु जैसे-जैसे बडा हुआ और संसार की नजर में आया तो मुझे संसार से धोखा मिला हर प्रकार से जैसा कि सभी के साथ होता है क्योंकि संसार से सभी को धोखा ही मिलता है ये संसार हमे धोखे और झूठ के अलावा क्या दे सकता है  फिर मेरी शादी हुई और शादी के बाद मेरा गुस्सा बढ़ता गया मेरे घर में झगड़ा रहता  प्रतिदिन सुबह होते ही बिना वजह के झगड़ा होता और अब मुझे पता चला है कि यह शैतान का काम था परंतु मैं प्रभु यीशु मसीह से बिल्कुल अनजान था दूर-दूर तक मैं परमेश्वर के बारे में नहीं जानता था और अगर कोई प्रभु यीशु मसीह के बारे में बताता था तो मैं उसका मजाक उड़ाता था और हंसा करता था अब सोचने वाली बात यह थी कि मैं पूजा पाठ करता था फिर भी मेरे घर में झगड़ा क्यों मेरे घर में शांति क्यों नहीं आ रही थी मेरे घर में किसी भी प्रकार की भोजन , वस्त्र और  धन की कमी नहीं थी परंतु मेरे घर में शांति नहीं थी मेरे घर में झगड़ा रहता था |

मेरे घर में खुशहाली नहीं थी इसीलिए मैं सोच में पड़ गया और फिर मुझे मेरे कारोबार में  बहुत नुकसान हुआ और मेरा बिजनेस अचानक बंद हो गया मैं अपने बिजनेस से अच्छे पैसे कमाता था और अच्छे पैसे खर्च भी किया करता था  परंतु अचानक से मेरी स्थिति खराब हो गई और मेरा मन पूजा पाठ से उठ गया मैं धीरे-धीरे नास्तिक बन गया क्योंकि मेरे स्वभाव में कोई परिवर्तन नहीं आया और भी मेरे कई सवाल खड़े हो गए जैसे की दुनिया किसने बनाई है और मुझे किसने बनाया है इसलिए मैं धर्म ग्रंथ पढ़ने लगा  और सृष्टि कर्ता को खोजने लगा  परंतु मुझे मेरे प्रश्नों का उत्तर नहीं मिला  जैसे पहला मनुष्य कौन था पहली स्त्री कौन थी मेरे घर के पास ही चर्चे है मैं एक संडे वहां गया मैंने एक औरत में से दुष्ट आत्मा निकलते हुए देखा और मैं उनको देखकर यह सोच में पड़ गया की यह प्रभु यीशु मसीह के नाम से प्रार्थना करके बोल रहे हैं चली जाए और वह चली गई इतना आसानी से कैसे वहां मुझे प्रभु यीशु मसीह को जानने की लगन पैदा हुई और मैंने परमेश्वर के दास को बोला कि क्या मुझे भी प्रभु यीशु मसीह का दर्शन होगा  तो उन्होंने बोला हां क्यों नहीं अगर आप सच्चे मन से मांगोगे तो जरूर होगा फिर मैं दर्शन मांगने लगा |

और मुझे कुछ ही दिनों बाद जब मैं अपने कमरे में अकेला सो रहा था एक सपना आया एक आसमान में से परमेश्वर का जोरदार शब्द गुंजा पुकार कर कहा """""उठ , तू  क्यों सोता है'"" मैं उठा और डर गया  मैंने उस परम प्रधान के शब्द को पहचान लिया क्योंकि इस विषय में मेरी आत्मा ने गवाही दी कि ये वही है जिसने पूरे ब्रह्मांड को बनाया है  तो फिर मैंने बाइबल को पढ़ा और जाना कि मेरा नाम जीवन की पुस्तक में लिखा है और स्वयं  सृष्टिकर्ता सर्वशक्तिमान परम प्रधान परमेश्वर ने मुझे चुना है उसने आज मुझे पवित्र जीवन दिया है मेरा स्वभाव  अब पहले जैसा नहीं रहा उसी ने मेरे पापो को माफ करके मुझे पवित्र आत्मा का दान दिया है परमेश्वर का वचन कहता है


मत्ती 13:16-17
[16]पर धन्य है तुम्हारी आंखें, कि वे देखती हैं; और तुम्हारे कान, कि वे सुनते हैं।
[17]क्योंकि मैं तुम से सच कहता हूं, कि बहुत से भविष्यद्वक्ताओं ने और धमिर्यों ने चाहा कि जो बातें तुम देखते हो, देखें पर न देखीं; और जो बातें तुम सुनते हो, सुनें, पर न सुनीं।



आपका भाई अमित बजाज

Note:- आप सभी लोगों से विनती है कि आप सभी लोग अपनी अपनी गवाही जरूर दिया करें क्योंकि हमारी गवाही से परमेश्वर पिता प्रसन्न होते हैं

No comments:

Post a Comment