Breaking

Thursday, January 24, 2019

उपकार मत भूलिए, सो जब तेरा भला हो जाए तब मुझे स्मरण करना | Jesus Hindi


उपकार मत भूलिए:- 


सो जब तेरा भला हो जाए तब मुझे स्मरण करना, और मुझ पर कृपा करके फिरौन से मेरी चर्चा चलाना, और इस घर से मुझे छुड़वा देना। उत्पत्ति 40:14

युसूफ जब जेल में था।  तो फिरौन का पिलानेहारा और पकानेहारा भी जेल में थे। दोनों ने स्वप्न देखा और यूसुफ ने उन सपनों का अर्थ बता दिया।  यूसुफ ने उनके बारे में जो कुछ बताया था वह सही निकला। यूसुफ ने पिलाने हारे से निवेदन किया था कि जब। तेरा भला हो जाए तो  फिरौन से मेरी चर्चा चलना और मुझे जेल से निकाल लेना, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। पिलानेहारा  मृत्युदंड से बच गया लेकिन वह उस युसूफ को भूल गया जिसने उसे सपनों का अर्थ बताया था। वचन कहता है -  फिर भी पिलानेहारे के प्रधान ने यूसुफ को स्मरण न रखा परंतु उसे भूल गया । उत्पत्ति 40:23 आप का भी अनुभव कई बार शायद ऐसा ही रहा होगा कि आपने जिसकी भलाई कि वह समय आने पर आपको भूल गया

प्रियो, परमेशवर ऐसा नहीं है, वह आपके उन सारे कार्यों को, प्रार्थनाओं को, उस परिश्रम को जो आप उसके लिए करते हैं, स्मरण रखता है, वचन कहता है -  क्योंकि परमेश्वर अन्यायी  नहीं कि तुम्हारे काम और उस प्रेम को भूल जाए, जो तुमने उसके नाम के लिए इस रीती से दिखाया की पवित्र लोगों की सेवा की और कर भी रहे हो इब्रानियों 6:10

 पिलानेहारे का काम था फिरौन के हाथ में कटोरा देना, कटोरा देने वाला मनुष्य भूल सकता है लेकिन यीशु हमें कभी नहीं भूल सकता जिसने बियारी के दिन अपने लहू का कटोरा अपने चेलों के हाथ में दिया था। वह आपके कामों को जानता है और यदि आप सेवा कर रहे हैं तो वह आपके मारे मारे फिरने का हिसाब रखता है। भजन संहिता 56:8
 तू मेरे मारे मारे फिरने का हिसाब रखता है; तू मेरे आंसुओं को अपनी कुप्पी में रख ले! क्या उनकी चर्चा तेरी पुस्तक में नहीं है?

आइए देखें कि अंत में क्या हुआ ? जब फिरौन ने स्वप्न देखा तो उसका अर्थ कोई भी नहीं बता पाया। वह बेचैन था और ऐसे व्यक्ति की खोज में था जो उसके स्वप्नों का अर्थ बता सके। पिलानेवाले को तब यूसुफ का स्मरण आया और बोल उठा - तब पिलाने हारों का प्रधान फिरौन से बोल उठा की मेरे अपराध आज मुझे स्मरण आए
 उत्पत्ति 41: 9 

 परिणाम यह हुआ कि फिरौन ने युसूफ को बुलवा भेजा । प्रियो, कितनी  धन्य बात है  किसी के उपकारो को स्मरण करना !! बेशक पिलानेहारा शुरू में यूसुफ को भूल गया था। लेकिन समय पर उसे याद करके उसने कृतज्ञता का परिचय दिया। क्या आपने किसी के उपकार को भुला दिया है ?  क्या आप उन लोगों को धन्यवाद सहित याद करते हैं।  जिन्होंने संकट के समय आपकी हर प्रकार से सहायता की और आपके साथ खड़े रहे। यदि नहीं तो आज समय है उन्हें याद करने का उनके प्रति अपनी कृतज्ञता को प्रकट करने का और उनके जीवन के लिए परमेशवर को धन्यवाद देने का, ऐसा जरूर करें क्योंकि यह परमेशवर को भाता है
भजन संहिता 103:2

 हे मेरे मन, यहोवा को धन्य कह, और उसके किसी उपकार को न भूलना।
 "  आमीन  "  🙏




No comments:

Post a Comment