Breaking

Monday, December 24, 2018

येशु की जन्म की कहानी हिंदी में जीसस क्राईस्ट | Jesus of Birth | JESUSHINDI.COM

येशु की  जन्म की कहानी हिंदी में जीसस क्राईस्ट 

जीसस हिंदी 

हर तरफ क्रिसमस की तैयारियां जोर पकड़ रही हैं। क्रिसमस शब्द सुनते ही रोशनी, सजावट, आकर्षक रूप से सजे-धजे क्रिसमस ट्री, लाल कपड़ों में बड़ी सी दाढ़ी वाले सांता क्लॉज की छवि यकायक ही हमारे मन में घर कर जाती है। अनेकों प्रकार के स्वादिष्ट केक और अन्य व्यंजनों का स्वाद हमारी जीभ पर आने लगता है। क्रिसमस में बजने वाली घंटियों की और गाए जाने वाले कैरोल की मीठी ध्वनि कानों में बजने लगती है।

खुशी और उत्साह का प्रतीक क्रिसमस ईसाई समुदाय का सबसे बड़ा त्योहार है। ईसाई समुदाय द्वारा यह त्योहार यीशु मसीह के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। क्या आप जानते हैं ‍कि मसीह यीशु का जन्म कैसे हुआ? अगर इसका जवाब हां है तो यकीनन यह अच्छी बात है और अगर नहीं है तो चलिए हम बताते हैं आपको कि मसीह यीशु का जन्म कब और कैसे हुआ। 

आज से हजारों साल पहले नासरत में गेब्रियल नामक एक स्वर्गदूत ने मरियम को दर्शन दिया और कहा कि तू पवित्र आत्मा की ओर से गर्भवती होगी और एक पुत्र जनेगी, ‍उसका नाम यीशु रखना। उस समय ‍मरियम यूसुफ की मंगेतर थी। यह खबर सुनते ही यूसुफ ने बदनामी के डर से मरियम को छोड़ने का मन बनाया। लेकिन उसके विचारों को जानकर उसी स्वर्गदूत ने यूसुफ से कहा कि मरियम पवित्र आत्मा की ओर से गर्भवती है उसे अपने यहां लाने से मत डर। स्वर्गदूत की बात मानकर यूसुफ मरियम को ब्याह कर अपने घर ले आया।

उस समय नासरत रोमन साम्राज्य का हिस्सा था। ‍मरियम की गर्भावस्था के दौरान ही रोम राज्य की जनगणना का समय आ गया। तब नियमों के चलते यूसुफ भी अपनी पत्नी मरियम को लेकर नाम लिखवाने येरूशलम के बैतलहम नगर को चला गया। सराय में जगह न मिलने के कारण उन्होंने एक गौशाले में शरण ली। 

बैतलहम में ही मरियम के जनने के दिन पूरे हूए और उसने एक बालक को जन्म दिया और उस बालक को कपड़े में लपेटकर घास से बनी चरनी में लिटा दिया और उसका नाम यीशु रखा। पास के गरड़‍ियों ने यह जानकर कि पास ही उद्धारकर्ता यीशु जन्मा है जाकर उनके दर्शन किए और उन्हें दण्डवत् किया। 

यीशु के जन्म की सूचना पाकर पास देश के तीन ज्योतिषी भी येरूशलम पहुंचे। उन्हें एक तारे ने यीशु मसीह का पता बताया था। उन्होंने प्रभु के चरणों में गिर कर उनका यशोगान किया और अपने साथ लाए सोने, मुर व लोबान को यीशु मसीह के चरणों में अर्पित किया। 


No comments:

Post a Comment