Breaking

Thursday, November 29, 2018

क्रिसमस दान का त्योहार | Jesus My Life | Jesushindi.com


क्रिसमस दान का त्योहार

क्रिसमस एक अनोखा पर्व है जो ईश्वर के प्रेम, आनंद एवं उद्धार का संदेश देता है। क्रिसमस का त्योहार अब केवल ईसाई धर्म के लोगों तक ही सिमित नही रह गया है, बल्कि देश के सभी समुदाय के लोग इसे पूरी श्रद्धा और उल्लास के साथ मनाते हैं। क्रिसमस मानव जाति के उद्धार के लिए परमेश्वर के द्वारा की गई पहल को दर्शाने वाला त्योहार भी है।

सांता क्लॉज, जो लाल व सफेद ड्रेस पहने हुए, सफेद बाल और दाढ़ी वाला एक वृद्ध मोटा पौराणिक पात्र है। जो अपने वाहन 'रेन्डियर'पर सवार होता है। इस त्योहार पर समारोहों के दौरान विशेष कर बच्चों में बहुत लोकप्रिय होता है। वह बच्चों को प्यार करता है तथा उनके लिए उपहारों में मनचाही वस्तुएं, चॉकलेट आदि लाता है। ऐसा माना जाता है कि इन उपहारों को वह रात के समय उनके जुराबों में रख देता है।

पर क्या आप जानते हैं कि आखिर सांता क्लॉज ढेर सारे उपहार लेकर एक ही रात में दुनिया भर के सभी घरों में कैसे पहुँच सकता है। इसका जवाब है, हम सब के बीच ही एक सांता छुपा होता है लेकिन हम उसे पहचान नही पाते हैं। सांता बिना किसा भी स्वार्थ के सब के जीवन में खुशियाँ ले कर आता है। हमे भी उस से एक सबक लेना चाहिए कि किस तरह हम किसी भी तरह अगर एक इंसान को खुशी दे सकें तो शायद हम भी इस क्रिसमस को सही मायने में मनाने में कामयाब हो सकेंगे।

अब आप सोच रहे होंगे कि आप अपनी भाग-दौड़ भरी जिंदगी से इतना समय कैसे निकालें कि कुछ दान करने के बारे में या किसी रोते को हंसाने के बारे में सोच सकें। तो इसकी शुरूआत आप अपने घर से ही कर सकते हैं, आप के घर में अगर कुछ पुराने कपड़े हैं जिन्हे आप इस्तेमाल नही कर रहे हैं, आप उसे किसी मंदिर या गुरूद्वारे में दे सकते हैं ताकि वो किसी गरीब के तन ढकने के काम आ सके और कम से कम इन सर्दियों को बिना किसी तकलीफ के गुजार पांए।

अगर आप के घर में छोटे बच्चे हैं तो आप उन्हे भी सिखांए कि वो अपने पुराने खिलौनों को आपके घर में काम करने वाले गरीब जरूरतमंद को दे दें।

अगर आप क्रिसमस देने के लिए उपहार खरीदने का सोच रहे हैं तो आप किसी अनाथ आश्रम या संस्था में बच्चों के हाथ से बने हुए उपहार खरीदें।

शायद इस तरह आप इस साल एक नई तराके से शुरूआत कर सकेंगे, और यकीन मानिए आप क्रिसमस का और जोश और उल्लास के साथ स्वागत करेंगे ! 

No comments:

Post a Comment